Tuesday, April 23, 2024
HomeDelhiGood News For Well Behaved Prisoners : तिहाड़ जेल में बंद...

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली।
Good News For Well Behaved Prisoners : तिहाड़ देश का इकलौता ऐसा ओपन जेल है, जहां लंबे समय से एक भी कैदी नहीं है। जेल प्रशासन के अनुसार यहां बंद कैदियों को पिछले वर्ष मई में इमरजेंसी पैरोल पर रिहा किया गया था। इसके बाद से यह जेल खाली पड़ा है। लंबे समय से खाली रहने के कारण ओपन जेल की सुविधा का लाभ अच्छे आचरण वाले अन्य कैदी भी उठा सकें, इसके लिए जेल प्रशासन ओपन जेल की पात्रता के लिए जरूरी नियमों में छूट देने पर विचार कर रहा है।

वर्तमान नियमों के अनुसार ओपन जेल की सुविधा का वही कैदी लाभ उठा सकता है जो दो वर्ष तक लगातार सेमी ओपन जेल में रहा हो। सेमी ओपन जेल में रहने के लिए वही कैदी पात्र हो सकता है, जिसने सजा का दो तिहाई हिस्सा अच्छे आचरण के साथ पूरा कर लिया हो।

जेलों में रहने के लिए काफी कड़ी है शर्ते Good News For Well Behaved Prisoners 

Good News For Well Behaved Prisoners

सूत्रों का कहना है कि दोनों ही जेलों में रहने के लिए शर्ते काफी कड़ी है। इन शर्तो में चरणबद्ध तरीके से छूट के बारे में प्रशासन विचार कर रहा है। चूंकि ओपन जेल की सुविधा कैदी लंबे समय से नहीं उठा पा रहे हैं, ऐसे में पात्रता की शर्तो में छूट का दायरा पहले ओपन जेल से शुरू होगा। बाद में सेमी ओपन जेल के लिए छूट का प्रविधान होगा।

जून 2013 में हुई थी सेमी ओपन जेल की शुरूआत

Good News For Well Behaved Prisoners

बता दें कि सेमी ओपन जेल की शुरूआत जून 2013 में हुई थी। इसकी क्षमता 50 कैदियों की है। सेमी ओपन जेल की शुरूआत के समय ओपन जेल के बारे में बताया गया था। सेमी ओपन जेल की शुरूआत के चार वर्ष बाद ओपन जेल खोली गई थी। ओपन जेल की क्षमता फिलहाल 36 व सेमी ओपन जेल में 60 कैदियों की क्षमता है।

गंभीर मामलों में सजा काट रहे कैदियों के अलावा ऐसे कैदी जिनका जेल में आचरण काफी अच्छा रहा, उन्हें यह छूट दी गई कि वे जेल में रहने के बजाय सेमी ओपन जेल के तहत बनाए गए क्वार्टर में रहें। यहां कूलर, एलसीडी टीवी, कामन रूम व 10 मिनट टेलीफोन पर बात करने की सुविधा दी जाती है। तिहाड़ परिसर के 400 एकड़ के क्षेत्र में सुबह आठ बजे से शाम छह बजे तक कहीं भी घूमने-फिरने की छूट है।

जेल परिसर में बने कार्यालयों में कर सकते है काम

Good News For Well Behaved Prisoners

महानिदेशक जेल संदीप गोयल के अनुसार वे इस दौरान जेल परिसर में बने कार्यालयों में काम कर सकते हैं। काम खत्म करने के बाद क्वार्टर में लौटना होता है। ओपन जेल में घूमने-फिरने की आजादी की सीमा और बढ़ा दी गई है। यहां रहने वाले कैदियों को तिहाड़ जेल परिसर से बाहर निकलने की आजादी मिलती है। वे दिल्ली में कहीं भी कार्य भी कर सकते हैं। ओपन जेल की सुविधा का ज्यादा कैदी लाभ उठा सकें, इसके लिए कैदियों से जुड़ी कुछ शर्तो पर छूट देने पर विचार किया जा रहा है। जल्द ही इस बाबत अंतिम फैसला लिया जाएगा। (Good News For Well Behaved Prisoners)

Also Read : Court instructions to DMRC : कोर्ट का डीएमआरसी को निर्देश: पहली किस्त अप्रैल महीने तक और शेष राशि का मई तक करना होगा भुगतानhttps://indianewsdelhi.com/delhi/court-instructions-to-dmrc/

Also Read : Will Not Be Insured : चालान नहीं भरा तो वाहनों का नहीं हो सकेगा बीमाhttps://indianewsdelhi.com/delhi/will-not-be-insured/

Also Read : musical meditation : सीरीफोर्ट आडिटोरियम में म्यूजिकल मेडिटेशन में 1200 से ज्यादा लोग हुए शामिलhttps://indianewsdelhi.com/delhi/musical-meditation/

Also Read : 631 Could Not Complete Documents : 631 चयनित लोग ई-आटो लाइसेंस से जुड़े दस्तावेज नहीं कर पाए पूराhttps://indianewsdelhi.com/uncategorized/631-could-not-complete-documents/

Also Read : Fill The Challan First,Then There will be Insurance. पहले चालान भरो उसके बाद इंश्योरेंस होगा ।https://indianewsdelhi.com/delhi/fill-the-challan-firstthen-there-will-be-insurance/

READ MORE :Dedicated To Women’s Day : दिल्ली मेट्रो ने महिला यात्रियों के लिए शुरू की ईनामी योजना

Connect With Us : Twitter | Facebook

 

SHARE
- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular