Sunday, July 14, 2024
HomeLifestyleLong Life Tips: सद्गुरु से जाने लम्बा और स्वस्थ जीवन जीने का...

Long Life Tips: सद्गुरु से जाने लम्बा और स्वस्थ जीवन जीने का मंत्र

India News Delhi(इंडिया न्यूज दिल्ली), Long Life Tips:: आज के इस भाग-दौड़ भरे व्यस्त जीवन में सब एक स्वस्थ और अच्छा जीवन जीना चाहते हैं। आज के दिन जो व्यक्ति मानसिक और शारीरिक स्तर पर स्वस्थ है, वही असली धनी है। आइये सद्गुरु से जानते है कौनसे ऐस 6 आसान उपाय हैं जिनके मदद से आप एक लम्बा, अच्छा और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

Long Life Tips: प्राकृतिक खाने पर जोर दें

सद्गुरु प्राकृतिक खाना खाने पर जोर देते है। उनका कहना है की एक ऐसा डाइट जिसमे फल, सब्जियां, अनाज और नट्स होते है वह एक स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकता है। खाने की ये प्राकृतिक वस्तुएं आवश्यक पोषक तत्त्व प्रदान करते है जो एक अच्छा जीवन और स्वस्थ बनाने साथ ही बिमारियों से लड़ने के लिए जरूरी होते है। वो हमेशा ताजा फल खाने की बात पर जोर देते है क्योकि फल सिर्फ आवश्यक विटामिन ही नहीं देता बल्कि यह शरीर से हानिकारक तत्वों को साफ़ भी करता है।

शारीरिक गतिविधियां करें

शारीरिक गतिविधि एक अच्छा जीवन जीने के लिए बहुत आवश्यक है। उनका कहना है की योग और तरह-तरह की फिजिकल एक्टिविटीज सभी को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए। शरीर का वजन, दिमाग और दिल को संतुलित बनाए रखने के लिए फिजिकल एक्टिविटीज बहुत जरुरी हैं।

Long Life Tips: अच्छी तरह से नींद लेना

सद्गुरु ने लम्बे जीवन के लिए यह कहा की अच्छी तरह से सोना शरीर को लम्बा चलने में मदद करता है। उनके मुताबिक सोने के समय से अधिक सोने का तरीक महत्व रखता है। ज्यादा देर तक सोने से बेहतर है अच्छी तरह से कम देर तक सोना।

मैडिटेशन पर ध्यान देना

सद्गुरु इस बात पर जोर देते है कि मैडिटेशन करने से मन को शांति मिलती है और काम करने में मन लगा रहता है। मैडिटेशन हमको जीवन के तनाव, स्ट्रेस और अवसाद से बचता है। यह एक तनावमुक्त और अच्छा जीवन जींव में मदद करते है।

खुशियां खोजिए

खुश रहने से तनाव से मुक्ति मिलती है इसलिए हमेशा खुश रहना चाहिए। सद्गुरु कहते है कि सकारात्मक रहने के लिए हमें छोटी-छोटी चीजों में खुशियां खोजनी चाहिए। सकारात्मक और खुश रहने से इम्युनिटी भी बढ़ती है।

Long Life Tips: प्रकृति से जुड़ाव रखें

सद्गुरु ने बताय कि जीवन को अच्छा करने के लिए प्रकृति को अच्छा करना और उससे जुड़े रहना आवश्यक होता है। प्रकृति से जुड़े रहने से दिमाग और मन में एक शांति होती हैं।

SHARE
- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular