Tuesday, July 23, 2024
HomeUncategorizedYamuna Expressway: यमुना एक्सप्रेसवे पर सफर करने वालों के लिए गुड न्यूज,...

Yamuna Expressway: यमुना एक्सप्रेसवे पर सफर करने वालों के लिए गुड न्यूज, 5 जगह मिलेगी ये सुविधा

India News Delhi (इंडिया न्यूज़), Yamuna Expressway: दिल्ली-एनसीआर और गौतमबुद्ध नगर जिले में जारी भीषण गर्मी के बीच यमुना एक्सप्रेसवे पर सफर करने वाले वाहन चालकों के लिए राहत की खबर है। गर्मी की तीव्रता से कारों के टायर अधिक गर्म हो जाते हैं, जिससे तेज गति पर टायर फटने की संभावना बढ़ जाती है। इस समस्या से निपटने के लिए यमुना एक्सप्रेसवे पर टायरों में नाइट्रोजन गैस भरने के लिए नाइट्रोजन पॉइंट बनाए गए हैं।

Yamuna Expressway: टायरों को ठंडा रखती है नाइट्रोजन गैस

नाइट्रोजन गैस सामान्य हवा की तुलना में टायरों को ठंडा रखने में अधिक सक्षम होती है। दुर्घटनाओं को रोकने के लिए ग्रेटर नोएडा से आगरा तक एक्सप्रेसवे पर पाँच स्थानों पर नाइट्रोजन पॉइंट स्थापित किए गए हैं। इन पॉइंट्स पर वाहन चालक अपने टायरों में नाइट्रोजन भरवा सकते हैं, जिससे यात्रा के दौरान टायर ठंडे रहें और फटने की संभावना कम हो।

इन 5 जगह मिलेगी नाइट्रोजन गैस

ये नाइट्रोजन पॉइंट एक्सप्रेसवे के प्रवेश पॉइंट, अंतिम पॉइंट और तीन टोल प्लाजा पर स्थित हैं। तेज गति से गाड़ी चलाने पर टायर जल्दी गर्म हो जाते हैं और फटने का खतरा बढ़ जाता है, जिससे हादसे हो सकते हैं। इसके अलावा, मुसाफिरों की सुविधा के लिए एक्सप्रेसवे पर ठंडे पानी के वाटर कूलर भी लगाए गए हैं।

Yamuna Expressway: 168 किलोमीटर लंबा

ग्रेटर नोएडा से आगरा को जोड़ने वाला यमुना एक्सप्रेसवे 168 किलोमीटर लंबा है। गर्मियों में इस एक्सप्रेसवे पर सड़क हादसों की संख्या में वृद्धि हो जाती है। अक्सर देखा गया है कि गर्मी के कारण यहां चलने वाले वाहनों के टायर फट जाते हैं, जिससे दुर्घटनाएं होती हैं। इस समस्या को कम करने के लिए एक्सप्रेसवे पर टायरों में नाइट्रोजन गैस भरने के लिए विशेष पॉइंट बनाए गए हैं, ताकि टायर ठंडे रहें और हादसों की संभावना कम हो।

जानिए इसके फायदे

नाइट्रोजन गैस के कई फायदे हैं जब इसे कार के टायरों में भरा जाता है। सामान्य हवा की तुलना में नाइट्रोजन गैस टायर में अधिक स्थिर प्रेशर बनाए रखती है। नाइट्रोजन गैस कम फैलती है, जिससे सड़क पर वाहन का संतुलन बेहतर रहता है और टायर में स्थिरता बढ़ती है। यह टायर को नमी से भी सुरक्षित रखती है और उन्हें कम गर्म होने देती है, जिससे गर्मी के दिनों में वाहन चलाना सुरक्षित हो जाता है।

यमुना प्राधिकरण के सीईओ अरुणवीर सिंह ने बताया कि एक्सप्रेसवे पर टायर फटने से होने वाले सड़क हादसों को रोकने के लिए पांच स्थानों पर नाइट्रोजन गैस भरने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। इसके अलावा, ट्रैक्टर-ट्रॉली के प्रवेश पर भी रोक लगाने के आदेश दिए गए हैं।

Read More:

SHARE
- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular