Saturday, April 13, 2024
HomeDelhimusical meditation : सीरीफोर्ट आडिटोरियम में म्यूजिकल मेडिटेशन में 1200 से...

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली :
musical meditation : 1990 में ब्रह्मर्षि पत्रीजी द्वारा गठित गैर-धार्मिक संगठन पिरामिड स्पिरिचुअल सोसाइटीज मूवमेंट (पीएसएसएम) द्वारा आयोजित सामूहिक म्यूजिकल मेडिटेशन में हिस्सा लेने के लिए पूरे भारत से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 1200 से ज्यादा लोग इकठ्ठा हुए। तीन घंटे चलने वाले इस इमर्सिव इवेंट को निर्वाण पथ -स्वयं को जानो के शीर्षक से आयोजित किया गया था।

इसमें बड़ी संख्या में वरिष्ठ नागरिक शामिल हुए। इस कार्यक्रम में सभी ने पत्रीजी के मार्गदर्शन में लाइव म्यूजिक के दौरान मेडिटेशन किया। इस मेडिटेशन कार्यक्रम ने न केवल व्यक्तिगत रूप से हिस्सा लेने वाले लोगों के लिए रिलैक्सेशन (विश्राम) और शांति के रूप में काम किया, बल्कि डिजिटल रूप से कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले लाखों व्यक्तियों के लिए भी इसने एक समान प्रभाव डाला।

कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी लोगों ने पहनी थी पिरामिड टोपी musical meditation 

musical meditation

कार्यक्रम की थीम को ध्यान में रखते हुए इसमें हिस्सा लेने वाले सभी लोगों ने पिरामिड टोपी पहनी थी। यह सब ब्रह्मर्षि पत्रीजी के साथ एक लाइव आॅनलाइन सेशन के साथ शुरू हुआ। पिरामिड स्पिरिचुअल सोसाइटीज मूवमेंट (पीएसएसएम) के संस्थापक की पत्नी स्वर्णमाला पत्रीजी जी ने दीप प्रज्ज्वलन के बाद पोस्ट कोविड की दुनिया में मेडिटेशन करने की आवश्यकता पर अपने विचार व्यक्त किए। (musical meditation)

स्वर्णमाला पत्रीजी ने अपने संबोधन में कहा, पत्रीजी ने लोगों को मेडिटेशन के महत्व के बारे में शिक्षित करने और शाकाहारी बनने में लोगों की सहायता करने के लिए अथक प्रयास किया है। आज डिजिटल मीडिया इस पहल को आगे बढ़ाने में हमारी मदद कर रहा है। इस वजह से बड़ी संख्या में लोग हमसे जुड़ रहे हैं और मेडिटेशन और शाकाहार को अपना रहे हैं।

नए मेडिटेशन करने वाले लोगों ने भी साझा किया अपना अनुभव musical meditation

मंच पर शामिल होने वाले अन्य गणमान्य लोगों में सीनियर पिरामिड मास्टर और पूर्व प्रेसिडेंट आॅफ कंपनी सेक्रेटी आॅफ इंडिया दतला हनुमंत राजू और जी. बालकृष्ण, जसविंदर कौर, रचना गुप्ता, वसंत शास्त्री, पीवी रामाराजू, दीप्ति नडेला सहित पीएसएसएम के अन्य सीनियर पिरामिड मास्टर थे।

एम. नवकांत, और आनंद कुमार। पीएसएसएम कार्यक्रम के स्वयंसेवकों ने भीड़ को संभालने का काम किया और शान्ति से मेडिटेशन करने में उनकी मदद की। सिद्ध वीणा पर सिद्धार्थ बनर्जी, तबले पर जहीन खान, वायलिन पर राघवेंद्र, और मृदंगम पर आर. केशवन द्वारा लाइव संगीत दिया गया था। नए-नए मेडिटेशन करने वाले लोगों ने भी अपने अनुभव और मेडिटेशन का उन पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में जानकारी साझा की। (musical meditation)

Also Read : 631 Could Not Complete Documents : 631 चयनित लोग ई-आटो लाइसेंस से जुड़े दस्तावेज नहीं कर पाए पूराhttps://indianewsdelhi.com/uncategorized/631-could-not-complete-documents/

Also Read : Fill The Challan First,Then There will be Insurance. पहले चालान भरो उसके बाद इंश्योरेंस होगा ।https://indianewsdelhi.com/delhi/fill-the-challan-firstthen-there-will-be-insurance/

READ MORE :Dedicated To Women’s Day : दिल्ली मेट्रो ने महिला यात्रियों के लिए शुरू की ईनामी योजना

Connect With Us : Twitter | Facebook 

SHARE
- Advertisement -
RELATED ARTICLES

Most Popular